A blog about motivational story in Hindi,hindi motivational quotes and motivational thoughts in hindi,motivational shayari,motivational speech in hindi, where you can get motivational lines,our main purpose of this blog to provide motivational value to visitors. एक पहल motivation की ओर

शुक्रवार, 17 जनवरी 2020

जंगल में असहाय आदमी/hindi motivational story for students

Hindi motivational story for students

निराशा क्या होती है? हां अपने सही सोचा जब सारी आशाएं ख़त्म हो जाए और आदमी पूरी तरह से असहाय महसूस करने लगता है और उस समय उसके सोचने की क्षमता धूमिल होने लगती है तो आयिए आपको इस,hindi motivational story में एक ऐसी motivational story बताता हूं जो आपको ऐसी परिस्थिति में भी positive रहने के प्रेरित करेगी।


Biggest hindi motivational story to change your vision


एक आदमी था जिसे प्राकृतिक चिजो से बहुत लगाव था,इस विचार से वह एक दिन जंगल में जाता है और वो अपने आप में इतना खुश होता है कि उस खबर भी नहीं हो पाती कि वो रास्ता भूल चुका है कि उस निकलना कैसे है,और वह आदमी उस जंगल में खो जाता है,उसके पास का बचा खाना पानी बहुत जल्द ख़त्म हो जाता है और वो पिछले 4,5 दिनों से पानी की एक एक बूंद के लिए तरस जाता है और उसे अच्छे से पता हो जाता है कि अगर उस कुछ ही घंटों में पानी नहीं मिलता है तो वो मर जाएगा।

 

लेकिन उसे भरोसा था कि मुझे कोशिश करते रहना चाहिए शायद पानी मिल ही जाए, होंठ सूख चुके थे और जंगल कि कड़कड़ाती पत्तियों के बीच से वो आगे बढ रहा था तभी उसे थोड़ी दूर पर एक झोपड़ी दिखाई देती है उसे अपनी आंखो पर यकीन नहीं होता है क्यूंकि उसके साथ ऐसा कई बार हो चुका रहता है पर झोपड़ी के पास जाने के अलावा उसके पास कोई रास्ता नहीं था क्यूंकि यह उसकी आखिरी उम्मीद जो थी,वो बेहद कमज़ोर हो चुका था लेकिन वह अपनी बची शक्ति के सहारे किसी तरह झोपड़ी के पास पहुंचता है जैसे जैसे वो आगे बढ रहा था उसकी उम्मीद भी बढ रही थी और इस बार वहा पर सच में झोपड़ी थी।


जब उसने झोपड़ी देखी तो उसे अजीब सा लगा क्यूंकि वह झोपड़ी बिल्कुल वीरान थी और जैसे वहा कई साल से कोई आया ना हो,पर वो क्या करता पानी की तलाश में वो झोपड़ी के अंदर जाता है इधर उधर बेसब्री से देखता है तभी कोने में उस एक हैडपम्प (नल) दिख जाता है,मानो उस आदमी को भगवान मिल गए वो बहुत तेज़ी से नल की तरफ बढ़ता है और बेहद उत्सुकता से उसे चलाता है पर

 

यह क्या नल तो पानी ही नहीं दे रहा जैसे वह कई साल से सूख चुका था आदमी बिल्कुल हताश हो जाता है और उसे लगता है अब मेरा मारना निश्चित है और वह कुछ ही क्षण में नीचे गिर पड़ता है,तभी उसे छत पर लटक रही एक पानी कि बोतल दिखती है वह किसी तरह उस बोतल को उतार कर बेचैनी से पीने ही वाला होता है कि उस बोतल पर चिपके कागज़ पर लिखा हुआ कुछ दिखता है,जिसपर लिखा था कि इ"पानी का प्रयोग नल चलाने के लिए करो और पुनः पानी भर कर बोतल वही पे रखना ना भूलें"।

उस आदमी के लिए यह बहुत विकट समस्या थी कि वह क्या करें,उसके मन में बहुत सारे सवाल उठने लगे थे,क्या पानी डालने से नल चलेगी? क्या पता यह लिखा हुआ झूठ हो? या हो सकता है जमीन के नीचे का पानी सूख चुका हो तब??? पर उसने अंतिम में सोचा क्या पता नल चल ही पड़े या लिखे हुई बात सच हो वह कुछ सोच नहीं पा रहा था क्यूंकि उसका एक फैसला उसकी ज़िन्दगी ले भी सकता है और बचा भी सकता है,पर वह पानी की बोतल को कांपते हुए हाथ से

नल में धीरे धीरे डालने लगता हैं और मन ही मन भगवान को याद कर के नल को चलाता है 1 बार चलाया पानी नहीं आया दूसरी बार चलाया फिर नहीं आया, तीसरी बार भी पानी नहीं निकलता है वो उसका हौसला टूटने जरूर लगता है पर वो पूरे ज़ोर से चौथी बार भी चलाता है पर इस बार नल से ठंडा पानी गिरने लगता है,

 

वह व्यक्ति जी भर के पानी पीता है उस पानी कि एक एक बूंद अमृत के समान लग रही थी उसका दिमाग काम करने लगा उसने पानी पी कर उस बोतल में पानी भरा और उसी जगह पर वापस रख दिया। बोतल रखते समय उसकी नज़र एक अन्य बोतल पर पड़ती है जिसमें एक पेंसिल और एक नक्शा रखा हुआ था वह नक्शा उसी जंगल का था उसने उस नक्शे को याद किया और उसे उसी जगह पर वापिस रख दिया वो चाहता तो नक्शे को अपने साथ भी ले जा सकता था पर उसने ऐसा नहीं किया।

अपने साथ जो बोतल लिया रहता है उसमे पानी भरता है और वहां से चल पड़ता है थोड़ी ही दूर जाता है कि पुनः कुछ सोच कर वापिस उसी झोपड़ी में आता है और पानी से रखी बोतल उतार कर उस कागज़ पर एक लाइन लिखता है,"मेरा यकीन मानिए इस नल से पानी निकलता है" जहां पर पहले सिर्फ यह लिखा था इस पानी का प्रयोग नल चलाने में करिए। उसने ऐसा इस लिए लिखा शायद यहां कोई और आ जाए और उसके मन में भी कई सवाल होंगे क्या यह नल चलेगा या कहीं यह बात झूठ तो नहीं। इसी लिए उसने ऐसा लिखा और वहां से चला जाता है।


निष्कर्ष-motivational conclusion आपकी ज़िन्दगी में ऐसी अनेक परिस्थितियां आयेंगी जो आपके प्रतिकूल होंगी जहां पर आप खुद को असहाय महसूस करेंगे पता है इस समय आपका सबसे अच्छा मित्र क्या है?? वो आपकी सोच की दिशा होती है। क्यूंकि यदि वो आदमी चाहता तो बोतल में रखा पानी पी सकता था और नक्शा भी ले सकता था पर उसने ऐसा नहीं किया,इससे क्या हुआ जंगल में भटकते राहियों को उसने आशा कि किरण छोड़ी।

इसी लिए आप अपनी सोच की दिशा हर परिस्थिति में उचित रखिए यकीन मानिए अपको सफल होने से कोई रोक नहीं सकता। 

Note- In this hindi motivation i informed to all of you guys do'nt give-up,keep trying till the last moment,and develope your positive mindset for success.

निवेदन- यदि अपको हमारी Hindi motivational story for students  पसंद आयी हो तो आप अपने कमेंट जरूर दें और अपने मित्रों के साथ जरूर शेयर करें।


                                                    ।। धन्यवाद ।।   






5 टिप्‍पणियां:

Please do'nt enter any spam link in the comment box.

ये ज़हर है | how to get out of the comfort zone?

ये ज़हर है  | Motivational thoughts on comfort zone | how to get out of the comfort zone? Comfort zone   यानी आराम क्षेत्र किसे नहीं पस...