A blog about motivational story in Hindi,hindi motivational quotes and motivational thoughts in hindi,motivational shayari,motivational speech in hindi, where you can get motivational lines,our main purpose of this blog to provide motivational value to visitors. एक पहल motivation की ओर

बुधवार, 1 जनवरी 2020

Simple guidance for you in Motivational thoughts/प्रेरणादायक विचार हिंदी में

Simple guidance for you in Motivational thoughts in hindi

इस प्रेरणादायक विचार यानी कि Motivational thought in Hindi में आपको आपकी जिंदगी में हर वो मुकाम दिलाने का रास्ता बताया गया है जो भी आप पाना चाहते हैं,तो चलिए अपने शुरू करते हैं।

Motivational thought in Hindi


                   

सफलता का रहस्य 

(Motivational thought in Hindi 1)

 

आप सोच रहें हैं कि मैं क्या कर रहा हूं,तो जान लीजिए मै युद्ध की तैयारी कर रहा हूं जो कि बिना बताए कभी भी ज्वालामुखी की भांति फुट सकता है,क्यूंकि युद्ध वही जीतता है जो युद्ध में लगने वाले समय से ज्यादा समय,युद्ध की तैयारी में लगता है, एक योद्धा जितना अभ्यास क्षेत्र में समय व्यतीत करेगा युद्ध क्षेत्र में उतना ही कम समय तथा कम खून बहेगा,

 

एक सामान्य लोहा और एक तीखी तलवार में बस इतना अंतर है कि तीखी तलवार को आग से होकर गुजरना पड़ता है,लोहार के हथौड़े का भिषड प्रहार सहना पड़ता है,एक तलवार जितनी पीड़ा सहेगी उसका प्रहार उतना ही प्रबल होगा|

 

निष्कर्ष(conclusion)

कभी पीड़ा से घबराए नहीं ना ही अपने कर्म से पीछे हटें बल्कि उसका सामना और अभ्यास करें,क्योंकि यही अभ्यास एक मात्र रास्ता है जो ज़िन्दगी के रणभूमि में आपको सफलता दिलाएगा।

 

 

समस्या बड़ी या सोच

 (Motivational thought in Hindi 2)

जब आकाश में बादल छा जाते हैं तो क्या होता है,अंधकार छा जाता है, बिजलियां कड़कती हैं,और गर्जना होती है,और पानी बरसने लगता है जिससे होता क्या है सभी जीव अपने आश्रय कि ओर छिपने के लिए दौड़ पड़ते हैं,आदमी अपने घर की ओर तो पक्षी अपने घोसले की ओर, परन्तु एक जीव ऎसा होता है जो इस कड़कती बिजली, गरजते बादल और तेज़ वर्षा को भी हरा देता है और वो जीव चील (पक्षी) है,|

क्योंकि वो समस्या के जड़ से ऊपर उड़ता है, इन सब मौसमी घटनाओं से उपर|

 

निष्कर्ष (conclusion)

यही अंतर है हारने और जीतने वाले में क्यूंकि यह युद्ध हार और जीत का नहीं है बल्कि समस्या और हमारी सोच का है यदि आपकी सोच छोटी है तो समस्या बड़ी हो जाएगी,यदि आपकी सोच बड़ी है तो समस्या छोटी हो जाएगी।

 

निर्णय आपको करना है।

 

                    

सफलता के साधन

(Motivational thought in Hindi 3)

बड़ी समस्या हो रही मुझको,मुझे पता ही नहीं चल पा रहा कि इस चाबी के गुच्छे की कौन सी चाबी इस पास के ताले को खोलेगी बड़ी देर से प्रयास कर रहा हूं यह ताला खुल ही नहीं रहा,ऎसि परिस्थिति में आप क्या करेंगे?? अधिकतर लोग अपनी आशा खो देंगे और प्रायास करना छोड़ देंगें और उन्हें लगता है कि चाबी खो गई और वे तिलमिला उठते हैं,गुस्सा करने लगते हैं,तो उस समय आपको धैर्य की सबसे ज्यादा जरूरत होती है क्यूंकि गुच्छे की अंतिम चाबी भी ताले को खोल सकती है। 

जिस प्रकार कुल्हाड़ी का अंतिम प्रहार पेड़ को काट के गिरा देता है,तो क्या सच में कुल्हाड़ी का अंतिम प्रहार पेड़ को काट कर गिरता है? तो उत्तर है नहीं बल्कि आपका निरंतर प्रयास ही आपको सफलता दिलाता है कुल्हाड़ी की पहली प्रहार से लेकर अंतिम प्रहार का समान योगदान है उस पेड़ को गिराने में|

 

निष्कर्ष (conclusion)

जब आपका मन उदास हो जाए तो वहीं समय है अपने ठाने हुए काम को दुगनी गति से करने का,क्यूंकि बिना रुके आनवृत तरह का बहता पानी ही कठोर से कठोर चट्टान को काट सकता है तो,

 

सफलता का मूल है, परिश्रम, प्रयास,और आशा     

परन्तु प्रयास,और परिश्रम उचित दिशा में होने चाहिए

HINDI MOTIVATIONAL THOUGHT ABOUT LIFE

जैसे हम पौधे में नियमित पानी देते हैं,उसके फूल पत्तों में नहीं देतें,फिर भी ये फूल पत्ते कैसे जाते हैं वो इस लिए क्योंकि हमारा प्रयास सही जगह पर हो रहा था यानी हैं जड़ों में पानी डाल रहें थें,जिससे हमारा पौधा फूल, पत्तियां स्वतः ही दे दिया।


यह motivational thought in Hindi ka series 1 था आपके लिए आगे part जरूर और जल्द लाएंगे..

यदि आपको हमारा यह पेज पसंद आया हो तो आप हमें support kar सकते हैं

                           ।।  धन्यवाद ।।

इसी तरह की motivational story Hindi me पढ़ने के लिए आप हमारे इस लिंक पर जा सकते हैं।


1 टिप्पणी:

Please do'nt enter any spam link in the comment box.

ये ज़हर है | how to get out of the comfort zone?

ये ज़हर है  | Motivational thoughts on comfort zone | how to get out of the comfort zone? Comfort zone   यानी आराम क्षेत्र किसे नहीं पस...