A blog about motivational story in Hindi,hindi motivational quotes and motivational thoughts in hindi,motivational shayari,motivational speech in hindi, where you can get motivational lines,our main purpose of this blog to provide motivational value to visitors. एक पहल motivation की ओर

सोमवार, 24 अगस्त 2020

3 बेहतरीन प्रेरक कहानियाँ 3 best motivational short story in hindi

 

3 best  motivational short story in hindi

3 बेहतरीन प्रेरक कहानियाँ (motivational short story in hindi) जो आपके ज़िंदगी को सरल और उच्च कोटी की बना सकती हैं

 

हर मुश्किल का हल है(There is a solution to every difficulty)

Motivational short story in hindi

एक आदमी था उसके पास एक गधा था जिसके सहारे वो अपना काम करता और अपने परिवार का पालन करता बेहद गरीब होने के कारण उसका खर्चा बड़ी मुश्किल से चल पाता था,एक दिन की बात थी वो एकदम सुबह उठता है और काम की तलाश मे शहर के side चल देता है,रास्ते मे एक जंगल से गुजरना था, वो रास्ते मे चलता जा रहा था और आखिर मे उस जंगल मे आ गया सफर जारी था उनका,उस रास्ते मे एक बड़ा सा गढ़ा था गधा उसे देख नहीं पता और उसी मे जा गिरता है|

यह घटना उस आदमी के लिए कहर बरसने वाली थी,क्यूंकी गधा ही उनके परिवार का एकमात्र साधन था,उस आदमी ने गधे को निकालने की काफी कोशिश की पर गधा निकल नहीं पाया उससे,आदमी हताश हो कर बैठ जाता है और सोचता है,यह गधा काफी दिनों से हमारे साथ था अब यह तड़प कर मर जाएगा भूख प्यास से इससे अच्छा है की मै इसे दफ़ना देता हूँ,और वो पास के लगे मिट्टी के ढेर से मिट्टी लाकर उस गढ़े मे फेकने लगता है,

पर उसके ऐसा करने से गधा दबने के बजाय उस फेंकी गई मिट्टी के सहारे धीरे धीरे ऊपर आने लगा और अंत मे वो बाहर निकल आता है|

निष्कर्ष- दोस्तों इस कहानी मे गौर कीजिए उस आदमी ने सारी आशाएँ खो दी थी की उसका गधा अब बच भी पाएगा,और उसने give up कर दिया,पर उसकी निराशयों मे भी एक हल निकल जाता है मित्रों इस बात को बिल्कुल न भूलें एसी कोई भी मुश्किल परिस्थिति नहीं बनी जिसका हल ना हो,

हाँ ये हो सकता है की आपको हल दिख न रहा हो,एसी स्थिति मे एकमात्र साधन है आपकी पाज़िटिव सोच तो उसको एक better direction मे ले जाने की कोशिश करें विश्वास करिए हल ज़रूर मिलेगा|


मूर्ख कौन?(who’s the idiots?)

motivational short story in hindi 

जंगल मे एक गधे और एक हिरण की बहस हो जाती की आसमान का रंग कैसा है? गधा बोलता है की आसमान का रंग लाल है तो हिरण बोलता है नहीं नीला है,इसी तरह काफ़ी लंबी बहस होने के बाद हिरण बोलत है अच्छा चलो इस बात का फैसला जंगल के राजा सिंह कारेंगें दोनों सिंह के पास जाते हैं गधा पूरी मस्ती मे था जैसे उसे कोई फ़र्क ही नहीं पड़ रहा था,जाकर वो अपनी पूरी बात बताते हैं,और यह निर्धारित होता है की जो गलत होगा उसे मार दिया जाएगा|

सारी बात सुनने के बाद सिंह बोलता है,हिरण तुम सबसे बड़े मूर्ख हो शर्त के मुताबिक तुम्हें मुझको मारना पड़ेगा,हिरण तिलमिला उठता है बोलत है ये तो नाइंसाफी है महराज आसमान तो वाकई मे नीला ही होता है लाल थोड़ी ना होता है|

सिंह ने बहुत बेहतरीन जवाब दिया उसने बोला हाँ तुम बिल्कुल सही हो पर तुमने एक गधे से बहस की और अपनी सारी ऊर्जा बर्बाद की यदि तुम सही थे तो बहस की क्या जरूरत थी,बहस वहाँ जरूरी है जहां उसे समझने वाले हो जहां उसकी जरूरत हो,पर तुमने तो एक गधे से बहस कर ली,अब बताओ तुमसे बड़ा मूर्ख कोई है,हिरण सिंह से माफी मांगने लगता है सिंह उसे छोड़ देता है|

निष्कर्ष कई बार हम बिना वजह किसी से भी बहस कर बैठते है की मै सही हूँ,अरे दोस्त यदि तुम सही हो तो साबित करने के बजाय उस time चुप रहो यदि अगला समझदार होगा तो वह समझ जाएगा,यदि वह गधा होगा तो तुम लाख समझा लो उसे समझ नहीं आएगा|



ज़िंदगी से कितना समझौता?(how much compromise with life?)

Motivational short story in hindi 

आईये आपको एक story से बताता हूँ, मोहन के पिता बोलते हैं मोहन इधर आओ तुमको आज कुछ दिखाता हूँ,मोहन अपने पिता के पास आता है उसके पिता एक भगौने मे पानी भर कर उसमे एक मेंढक डाल देते हैं,और उस भगौने को आग के ऊपर रख देते हैं,

यह सर दृश्य मोहन देख रहा होता है वो उत्सुकता से पूछता है पिता जी ये क्या कर रहे हो आप पिता बोलते है बेटा देखते रहो,पानी धीरे धीरे गर्म होने लगता है और मेंडक भी उस पानी की गर्मी के अनुसार खुद को ढालने लगता है,पानी थोड़ा और गर्म होता है मेंढक पुनः खुद को उस पानी के अनुकूल कर लेता है,पानी और गर्म होता है मेंढक किसी तरह फिर खुद को ढाल लेता है(इस बार बेचैन था)

पानी और गर्म हो जाता है अब मेंढक को पानी की गर्माहट बर्दास्त नहीं हो पा रही थी,उसने भगौने से कूदना चाहा पर कूद नहीं पाया वो फिर से पूरी जान लगा कर jump किया पर नाकाम रहा अंत मे वह मेंढक उस गर्म पानी मे मर जाता है|

पिता बोलते है मोहन ये बताओ की इस मेंढक को किसने मारा,गर्म पानी ने,या उस आग ने,मैंने??

आपकी कमजोरी का अंत/motivational story in hindi for success


मोहन कभी पानी का दोष देता तो कभी आग तो कभी अपने पिता का,पिता बोलते हैं मोहन इस मेंढक को किसी ने नहीं मारा यह अपनी मौत का स्वयं जिम्मेदार है,क्युकी जब जब पानी गर्म हो रहा था और इसे जलन हो रही थी तभी यह चाहता तो बर्तन से कूद कर निकल सकता था पर नहीं इसने हर बार परिस्थिति के साथ समझौता किया और अपनी सारी ऊर्जा उसे सहने मे लगा दिया,

जब उससे सहा नहीं गया तो उसने jump लगाई पर उसकी jump मे जान ही नहीं थी क्यूंकी वो तो अपनी सारी ऊर्जा गंवा चुका था,इसी लिए वो मर गया|

निष्कर्षमानता हूँ की सबकी अपनी अलग अलग ज़िंदगी की स्थिति है और उस स्थिति मे लोग अलग अलग ढंग से लगे हुए हैं पर मित्रों ये ना भूलें की किसी भी परिस्थिति के साथ उतना भी समझौता न करें की जब निकालने की बारी आए तो आपके पास कोई और option या ऊर्जा ही न बचें और आपका भी हाल इस मेंढक के जैसा हो,तो दोस्तों समय रहते अपनी परिस्थिति का मूल्यांकन करिए और उचित निर्णय लीजिए|

 

धन्यवाद


click here to read more

7 टिप्‍पणियां:

Please do'nt enter any spam link in the comment box.

Breakup shayari that make you love and hate | ब्रेकअप शायरी

Breakup Shayari   that make you love and hate | ब्रेकअप शायरी  Breakup Shayari   का यह पोस्ट आपको बहुत ही पसंद आएगा, जो आपके emotions को ...